नवरात्रा का पर्व और देवी दुर्गा के नौ अवतार

नवरात्रों का त्योहार देवी दुर्गा और राक्षस महिषासुर के बीच हुई लड़ाई से जुड़ा है और बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। ये नौ दिन देवी दुर्गा और उनके नौ अवतारों – नवदुर्गा को समर्पित हैं। प्रत्येक दिन देवी के एक अवतार से जुड़ा है। आइये जानते हैं, माँ दुर्गा के नौ रूपों के बारे में।

दिन 1 – शैलपुत्री
पहला दिन प्रतिपदा के रूप में जाना जाता है, इस दिन देवी के शैलपुत्री रूप,  जो कि पार्वती का अवतार हैं, को पूजा जाता है। देवी शैलपुत्री को बैल की सवारी करते  दिखाया गया है। उनके दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएं में कमल है। माँ शैलपुत्री को महाकाली का प्रत्यक्ष अवतार माना जाता है।

दिन 2 – ब्रह्मचारिणी
द्वितीया पर, देवी ब्रह्मचारिणी, पार्वती के एक अन्य अवतार, की पूजा की जाती है। माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा मोक्ष, शांति और समृद्धि की प्राप्ति के लिए की जाती है। नंगे पैर, हाथों में जपमाला और कमंडल धारण किए हुए, देवी आनंद और शांति  का प्रतीक हैं।


दिन 3 – चंद्रघंटा
तृतीया को देवी चंद्रघंटा की पूजा की जाती है।  कहा जाता है कि शिव से शादी करने के बाद, माँ पार्वती ने अपने माथे को अर्धचंद्र से सजाया था। वे सुंदरता का प्रतीक हैं और बहादुरी का भी।


दिन 4 – कुष्मांडा
चतुर्थी पर देवी कुष्मांडा से प्रार्थना की जाती है। माना जाता है कि, ब्रह्मांड की रचनात्मक शक्ति, कुष्मांडा पृथ्वी पर मौजूद वनस्पति की देवी हैं। उन्हें आठ हाथों वाली बाघ पर सवार देवी के रूप में दर्शाया गया है।


दिन 5 – स्कंदमाता
पंचमी पर स्कंदमाता देवी की पूजा की जाती है, जो स्कंद (या कार्तिकेय) की माता हैं। उन्हें एक शेर पर सवार, एक शिशु को साथ लिए और चार हाथों वाली देवी के रूप में चित्रित किया गया है।


दिन 6 – कात्यायनी
कात्यायन ऋषि से जन्मी, कात्यायनी देवी दुर्गा की अवतार हैं। योद्धा देवी के रूप में जानी जाने वाली कात्यायनी, देवी के सबसे क्रोधित रूपों में से एक मानी जाती हैं । इस अवतार में, कात्यायनी देवी एक शेर की सवारी करती हैं और उनके चार हाथ होते हैं।

दिन 7 – कालरात्रि
देवी दुर्गा के सबसे क्रूर रूप, कालरात्रि देवी, को सप्तमी के दिन पूजा जाता है। सप्तमी पर, देवी एक सफेद रंग की पोशाक में दिखाई देती हैं, उनकी उग्र आंखों में बहुत अधिक क्रोध होता है और उनकी त्वचा का रंग काला होता है।

दिन 8 – महागौरी
नवरात्रे के आठवें दिन महागौरी की पूजा होती है। देवी महागौरी बुद्धि और शांति का प्रतीक हैं। मां महागौरी का रंग बेहद गौरा है इसलिए इन्हें महागौरी के नाम से जाना जाता है। ये साधकों की सभी मनोकामनाओं को पूर्ण करती हैं।

दिन 9 – सिद्धिदात्री
त्योहार के अंतिम दिन को नवमी के रूप में जाना जाता है। इस दिन  लोग देवी सिद्धिदात्री से  प्रार्थना करते हैं। कमल पर विराजमान देवी के चार हाथ हैं। इस रूप में देवी सभी प्रकार की सिद्धियां प्रदान करती हैं।

Share
Aaradhi

Recent Posts

धनतेरस पर न खरीदें ये 10 चीजें

धनतेरस खरीदारी का दिन है। आने वाली दिवाली के लिए और एक शुभ दिन होने के कारण, लोग इस दिन…

3 months ago

नरक चतुर्दशी – महत्व और अनुष्ठान

नरक चतुर्दशी - महत्व और अनुष्ठान दिवाली भारत में मनाए जाने वाले सबसे प्रमुख त्योहारों में से एक है। रोशनी…

3 months ago

धनतेरस क्यों मनाया जाता है

धनतेरस को धनत्रयोदशी के नाम से भी जाना जाता है।  यह दिवाली के त्योहार का पहला दिन है। यह पर्व…

3 months ago

दिवाली मनाने के 15 तरीके

दिवाली उत्तर भारत के हिंदुओं के लिए साल के सबसे बड़े पर्वों में से है। रोशनी का यह त्योहार ढेर…

3 months ago

कैसे मनाया जाता है दशहरा

विजयदशमी, जिसको दशहरा भी कहा जाता है, हर साल नवरात्रि के अंत में मनाया जाने वाला एक प्रमुख हिंदू त्योहार…

3 months ago

बंगाल की दुर्गा पूजा से संबन्धित कुछ अनूठी रिवाजें

बंगाल की दुर्गा पूजा पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। इस अवसर पर सुंदर मूर्तियों से सजे पंडालों में लाखों भक्तों…

3 months ago

This website uses cookies.