पुराणों के अनुसार भगवान विष्णु के 10 अवतार कौन से हैं

कहा जाता है कि भगवान विष्णु के असंख्य अवतार हुए हैं जिनमें से ऋषियों ने दस अवतारों को बाकी अवतारों के प्रतिनिधि के रूप में चुना।  इन दस अवतारों को संस्कृत में “दशावतार” के रूप में जाना जाता है। गरुड़ पुराण में विष्णु की दशावतार सूची पेश की गई है

विभिन्न शास्त्रों में दशावतार सूची के विभिन्न संस्करण हैं। इसलिए हम यहाँ कई पुराणों पर आधारित भगवान विष्णु के सबसे लोकप्रिय दस अवतारों की सूची पेश कर रहे हैं, जो इस प्रकार है: 

1. मत्स्य अवतार

मत्स्य विष्णुजी का आधी मछली और आधा मानव वाला अवतार है। मत्स्य पुराण के अनुसार, मत्स्य अवतार में श्री हरी ने मनु, सभी प्राणियों, वेदों और सभी पौधों के बीजों की प्रलय से रक्षा की थी।

2. कछप अवतार

अपने कछप अवतार में भगवान विष्णु ने कछुए का रूप धारण कर मद्राञ्चल पर्वत को अपने पीठ पर धारण किया और समुद्र मंथन में देवताओं और राक्षसों की सहायता की।

3. वराह अवतार

वराह अवतार में, भूदेवी को बचाने के लिए भगवान विष्णु ने राक्षस हिरण्याक्ष का वध किया।

4. नरसिंह

नरसिंह विष्णु का आधा सिंह और आधा मानव अवतार है। उनका जन्म राक्षस राजा हिरण्यकश्यप के शासनकाल को समाप्त करने और पृथ्वी पर शांति, व्यवस्था और धर्म को स्थापित करने के लिए हुआ था।

5. वामन

विष्णु के पाँचवें अवतार, वामन बौने ब्राह्मण थे। भगवान विष्णु अपने इस अवतार में राक्षस राजा महाबली को पाताल लोक भेज देते हैं।

6. परशुराम

परशुराम भगवान विष्णु के ब्राह्मण-क्षत्रिय अवतार हैं। उन्हें अपने हाथ में कुल्हाड़ी के साथ एक ऋषि के रूप में चित्रित किया गया है। उनका जन्म दुष्ट क्षत्रियों के अत्याचार को समाप्त करने के लिए हुआ था।

7. भगवान राम

भगवान राम महाकाव्य रामायण के प्रमुख पात्र और विष्णु के पूर्ण ईश्वरीय अवतार  हैं। इस रूप में उन्होंने दुष्ट राजा रावण का वध किया और एक पुत्र, एक पति और एक राजा की मर्यादाओं को परिभाषित किया।

8. भगवान कृष्ण

भगवान कृष्ण अपने अत्याचारी मामा कंस के शासनकाल को समाप्त करने के लिए जाने जाते हैं। अपने इस अवतार में  उन्होंने अर्जुन का मार्गदर्शन कर उसे कुरुक्षेत्र के युद्ध में अत्याचारी कौरवों के विरुद्ध जीत दिलायी और संसार को गीता का ज्ञान दिया।

9. भगवान बुद्ध

राजकुमार सिद्धार्थ गौतम, जिन्हें बाद में गौतम बुद्ध के रूप में जाना जाने लगा, ने अपने परिवार और सभी भौतिक सुविधाओं को आत्मज्ञान की तलाश में त्याग  दिया। उन्होंने बौद्ध धर्म की स्थापना की और सत्य व अहिंसा का पाठ पढ़ाया।

10. कल्कि भगवान

कल्कि विष्णु का एकमात्र अवतार है जिनका जन्म होना अभी बाकी है। ऐसा कहा जाता है कि वह राक्षस कलि को हराकर सभी बुराई को समाप्त कर देंगे और एक नया सतयुग शुरू करेंगे। कल्कि को एक योद्धा के रूप में चित्रित किया गया है जो एक सफेद घोड़े की सवारी करता है और एक चमकदार तलवार रखता है।

Share
Aaradhi

Recent Posts

कैसे मनाई जाती है बंगाल में दुर्गा पूजा

बंगाल  में मनाए जाने वाले सभी त्योहारों में से दुर्गा पुजा सबसे भव्य है। हालांकि माँ दुर्गा की पूजा भारत…

3 weeks ago

देवी दुर्गा के वाहन और उनका अर्थ

नौ-दिवसीय दुर्गा पूजा के दौरान देवी को नौ अलग-अलग रूपों में पूजा जाता है। हिंदू मान्यताओं के अनुसार, मां दुर्गा…

3 weeks ago

2020 में पितृ पक्ष की समाप्ती के बाद क्यों नवरात्रा शुरू नहीं हो रहे

आश्विन के महीने में देवी दुर्गा को समर्पित नवरात्रि का नौ दिवसीय त्योहार आमतौर पर पितृ पक्ष के समाप्त होने…

3 weeks ago

नवरात्रा का पर्व और देवी दुर्गा के नौ अवतार

नवरात्रों का त्योहार देवी दुर्गा और राक्षस महिषासुर के बीच हुई लड़ाई से जुड़ा है और बुराई पर अच्छाई की…

1 month ago

नवरात्रि के नौ दिनों की तारीखें और उनसे संबन्धित ग्रह व रंग तथा नवरात्रि 2020 की तारीखें

सितंबर / अक्टूबर के महीने में मनाए जाने वाले नवरात्रों को शरद नवरात्रों के नाम से जाना जाता है। देश…

1 month ago

महाकवि गोस्वामी तुलसीदासजी की जीवनी

गोस्वामी तुलसीदासजी को भारत के सबसे महान कवियों में से एक माना जाता है। उन्हें महाकाव्य रामचरितमानस,जो कि रामायण का…

1 month ago

This website uses cookies.