Categories: BlogsSpiritual

बेडरूम में सकरात्मक ऊर्जा कैसे लाएँ

बेडरूम में सकरात्मक ऊर्जा के लिए सिर्फ उसका वास्तु सही होना ही काफी नहीं है बल्कि यह भी ज़रूरी है कि बेडरूम का रंग सही हो, वहाँ पर गलत चीजें न रखी गयी हो और वह हर समय साफ-सुथरा हो। बेडरूम में नकरात्मक ऊर्जा के प्रवेश को रोकने के लिए नीचे दिये गए उपायों को अपनाएं। इससे आपके जीवन में हर समय सकरात्मकता बनाए रखने में मदद मिलेगी।

बेडरूम में किस रंग का प्रयोग करें

रंग सिर्फ हमारी दुनिया को ही रोशन नहीं करते हैं; वे हमारे मूड, स्वास्थ्य और खुशी को भी प्रभावित करते हैं। बेडरूम के लिए ऑफ-व्हाइट, बेबी पिंक या क्रीम रंग सबसे उत्तम होते हैं। गहरे रंगों से बचें।

गुलाबी या पिंक रंग प्रेम का प्रतिनिधित्व करता है। यदि आप विवाहित हैं या किसी रिश्ते में हैं, तो गुलाबी रंग, वास्तु के अनुसार, आदर्श मास्टर बेडरूम का रंग है, क्योंकि यह आपके पार्टनर के साथ आपके रिश्ते को गहरा करता है।
ऑफ-व्हाइट, क्रीम आदि रंग भी सकारात्मक रंग हैं, जो आपको एक लंबे दिन के बाद आराम करने में मदद करते हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार, सफेद शांति, स्वतंत्रता और पवित्रता भी दर्शाता है।यह बच्चों के बेडरूम के लिए भी एक उपयुक्त रंग है। आप सफेद रंग का प्रयोग कर कभी भी गलत नहीं हो सकते।

बेडरूम में साफ अव्यवस्था

इसके अलावा, अपने बेडरूम में उन चीजों को न रखें जिन्हें सालों से इस्तेमाल नहीं किया गया है, जैसे घड़ियाँ, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, टूटी हुई कलाकृतियाँ या मशीनरी।

अपने बेडरूम को हमेशा साफ और व्यवस्थित रखें। अव्यवस्था ऊर्जा के प्रवाह पर नकरात्मक असर डालती है और घर में अशांति पैदा करती है। बेडरूम में,पानी के फव्वारे, एक्वेरियम और युद्ध के दृश्यों और एकल महिलाओं के चित्रों से भी बचें।
अच्छी भीनी खुशबू भी किसी भी जगह के वास्तु पर गहरा असर डालती है और मूड और आत्मा को उत्थान कर सकती है। अपने कमरे को  हमेशा ताजा खुशबू से महकता रखें।  आप अपने बेडरूम में खुशबूदार मोमबत्तियां, डिफ्यूज़र या पोट्प्युरी रख सकती हैं। ताज़ा चमेली या लैवेंडर सुगंध का उपयोग करें। ये मन को बहुत शांति पहुंचाते हैं।
आप अपने बेडरूम के दक्षिण-पश्चिम कोने में दो पिंक क्वार्ट्ज रख सकते हैं; यह आपके जीवन में अच्छी ऊर्जा के प्रवाह को बढ़ावा देगा।


बेडरूम के लिए कुछ अन्य वास्तु टिप्स

  • गोल या अंडाकार आकार के बिस्तर का प्रयोग न करें।
  • बेड पर हमेशा हेड रेस्ट होना चाहिए। सोते समय अपने सिर के पीछे कभी भी खिड़की खुली न रखें।
  • बिस्तर के ऊपर गोल फाल्स सीलिंग नहीं होनी चाहिए।
  • ओवरहेड बीम के नीचे कभी नहीं सोना चाहिए।
  • दीवार पर मृत पूर्वजों की तस्वीरों को लटकाने से बचना चाहिए।
  • पूजा घर शयनकक्ष में न रखें।
  • सभी टूटी हुई वस्तुओं को बेडरूम और घर से हटा दें।
  • उपयोग में न होने पर अटैच्ड टॉयलेट का दरवाजा बंद रखें।
  • समुद्री नमक मिले पानी से सप्ताह में कम से कम एक बार फर्श को साफ करें क्योंकि यह नकारात्मक ऊर्जा को दूर करता है।
Share
Aaradhi

Recent Posts

धनतेरस पर न खरीदें ये 10 चीजें

धनतेरस खरीदारी का दिन है। आने वाली दिवाली के लिए और एक शुभ दिन होने के कारण, लोग इस दिन…

3 months ago

नरक चतुर्दशी – महत्व और अनुष्ठान

नरक चतुर्दशी - महत्व और अनुष्ठान दिवाली भारत में मनाए जाने वाले सबसे प्रमुख त्योहारों में से एक है। रोशनी…

3 months ago

धनतेरस क्यों मनाया जाता है

धनतेरस को धनत्रयोदशी के नाम से भी जाना जाता है।  यह दिवाली के त्योहार का पहला दिन है। यह पर्व…

3 months ago

दिवाली मनाने के 15 तरीके

दिवाली उत्तर भारत के हिंदुओं के लिए साल के सबसे बड़े पर्वों में से है। रोशनी का यह त्योहार ढेर…

3 months ago

कैसे मनाया जाता है दशहरा

विजयदशमी, जिसको दशहरा भी कहा जाता है, हर साल नवरात्रि के अंत में मनाया जाने वाला एक प्रमुख हिंदू त्योहार…

3 months ago

बंगाल की दुर्गा पूजा से संबन्धित कुछ अनूठी रिवाजें

बंगाल की दुर्गा पूजा पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। इस अवसर पर सुंदर मूर्तियों से सजे पंडालों में लाखों भक्तों…

3 months ago

This website uses cookies.