वास्तु के आधार पर अपने घर के लिए सही रंगों का चयन कैसे करें

यह एक सिद्ध तथ्य है कि रंगों का इंसान पर काफी अधिक मनोवैज्ञानिक प्रभाव पड़ता है। घर एक ऐसी जगह है जहाँ एक व्यक्ति अपने जीवन का बड़ा हिस्सा गुजारता है। चूंकि खास रंग लोगों में खास भावनाओं को उत्तेजित करता है, इसलिए किसी के घर में रंगों का एक उपयुक्त संतुलन होना ज़रूरी है।
प्रत्येक दिशा का अपना एक विशेष रंग होता है। इसलिए घर के प्रधान को रंगों के चयन करते समय इसका ध्यान रखना चाहिए। दिशा के अनुसार सही रंगों का चयन आप निम्न आधार पर कर सकते हैं:
•उत्तर-पूर्व दिशा – हल्का नीला
•पूर्व दिशा – सफेद या हल्का नीला
•दक्षिण-पूर्व दिशा – इस दिशा में नारंगी, गुलाबी और चांदी के रंगों का उपयोग किया जा सकता है
•उत्तर दिशा – हरा, पिस्ता हरा
•उत्तर-पश्चिम दिशा – यह क्षेत्र वायु से संबंधित है, इसलिए इस दिशा के लिए सफेद, हल्के भूरे और क्रीम सबसे अच्छे रंग हैं
•पश्चिम दिशा – यह पानी का स्थान है, इसलिए यहाँ के लिए नीला या सफेद रंग उपयुक्त हैं
•दक्षिण-पश्चिम दिशा – पीच, मिट्टी का रंग, बिस्किट का रंग या हल्का भूरा
•दक्षिण दिशा – लाल और पीला

काले और लाल रंगों का चुनाव करते समय घर के प्रधान को अतिरिक्त सावधानी बरतनी चाहिए क्योंकि ये रंग हर व्यक्ति पर सूट नहीं करते हैं।

घर में रहने वाले लोगों को कमरे को रंगते समय निम्नलिखित बातों को ध्यान भी रखना चाहिए:

मास्टर बेडरूम- आदर्श रूप से, मास्टर बेडरूम दक्षिण-पश्चिम दिशा में होना चाहिए और इसलिए इसे नीले रंग से रंगना चाहिए।

ड्राइंग रूम- उत्तर-पश्चिम ड्राइंग रूम के लिए सबसे अच्छी जगह है और इस दिशा में मौजूद ड्राइंग रूम को सफेद रंग से रंगा जाना चाहिए।

बच्चों का कमरा- उत्तर-पश्चिम उन बच्चों के कमरे के लिए सबसे अच्छी दिशा है जो बड़े हो गए हैं और पढ़ाई के लिए बाहर जाने वाले हैं। चूंकि उत्तर-पश्चिम दिशा चंद्रमा द्वारा शासित है, इसलिए, इस दिशा के कमरे को सफेद रंग से रंगा जाना चाहिए।

रसोई – दक्षिण-पूर्व क्षेत्र रसोई के लिए आदर्श है और इसलिए, रसोई की दीवारों पर नारंगी या लाल रंग होना चाहिए।

बाथरूम- बाथरूम के लिए उत्तर-पश्चिम सबसे अच्छी जगह है और इसलिए, बाथरूम के लिए सफेद रंग उपयुक्त माना गया है।

घर का बाहरी रंग- घर का बाहरी रंग ऑफ-व्हाइट, हल्का पीला, हल्का बैंगनी या नारंगी हो सकता है। ये रंग सभी राशियों के लोगों को सूट करते हैं।
विशेषज्ञों का सुझाव है कि लाल, भूरा,ग्रे और काला जैसे गहरे रंग हर किसी को पसंद नहीं आते,क्योंकि वे कुछ उत्तेजित करने वाले ग्रहों जैसे राहु,शनि,मंगल और सूर्य का प्रतिनिधित्व करते हैं; इसलिए इन रंगों से बचना चाहिए।

कुल बात यह है की रंगों का चुनाव काफी सोच-विचारकर और एक्सपर्ट्स की सलाह के अनुसार करने से घर के वास्तु को संतुलित रखने में मदद करती है।

Share
Aaradhi

Recent Posts

कैसे मनाई जाती है बंगाल में दुर्गा पूजा

बंगाल  में मनाए जाने वाले सभी त्योहारों में से दुर्गा पुजा सबसे भव्य है। हालांकि माँ दुर्गा की पूजा भारत…

3 weeks ago

देवी दुर्गा के वाहन और उनका अर्थ

नौ-दिवसीय दुर्गा पूजा के दौरान देवी को नौ अलग-अलग रूपों में पूजा जाता है। हिंदू मान्यताओं के अनुसार, मां दुर्गा…

3 weeks ago

2020 में पितृ पक्ष की समाप्ती के बाद क्यों नवरात्रा शुरू नहीं हो रहे

आश्विन के महीने में देवी दुर्गा को समर्पित नवरात्रि का नौ दिवसीय त्योहार आमतौर पर पितृ पक्ष के समाप्त होने…

3 weeks ago

नवरात्रा का पर्व और देवी दुर्गा के नौ अवतार

नवरात्रों का त्योहार देवी दुर्गा और राक्षस महिषासुर के बीच हुई लड़ाई से जुड़ा है और बुराई पर अच्छाई की…

1 month ago

पुराणों के अनुसार भगवान विष्णु के 10 अवतार कौन से हैं

कहा जाता है कि भगवान विष्णु के असंख्य अवतार हुए हैं जिनमें से ऋषियों ने दस अवतारों को बाकी अवतारों…

1 month ago

नवरात्रि के नौ दिनों की तारीखें और उनसे संबन्धित ग्रह व रंग तथा नवरात्रि 2020 की तारीखें

सितंबर / अक्टूबर के महीने में मनाए जाने वाले नवरात्रों को शरद नवरात्रों के नाम से जाना जाता है। देश…

1 month ago

This website uses cookies.