भगवान ब्रह्मा के पांचवे सिर के गायब होने के पीछे की विचित्र कथा

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान ब्रह्मा सृष्टि के रचयिता हैं। भगवान ब्रह्मा को प्रजापति भी कहा जाता है। आमतौर पर उन्हें चार सिर और चार हाथ वाले देवता के रूप में दर्शाया गया है। उनके एक हाथ में वेद, एक में कमल, एक में माला, और एक में कमंडल होता है।
उनकी 3 पत्नियाँ थीं – सरस्वती, गायत्री और सावित्री। ये सभी शिक्षा, ज्ञान, विज्ञान और वेदों की देवी हैं। हिंदू पौराणिक कथा के अनुसार, भगवान ब्रह्मा के 5 सिर थे और उनके पांचवे सिर के गायब होने के पीछे एक विचित्र कथा है।

कथा यूं है कि एक बार भगवान विष्णु और भगवान ब्रह्मा में इस बात को लेकर विवाद छिड़ गया कि उन दोनों में कौन श्रेष्ठ था।  इस विवाद का हल करवाने वे भगवान शिव के पास पहुंचे। भगवान शिव ने एक प्रतिस्पर्धा रखी और एक विशाल अग्नि स्तंभ का रूप धारण किया जो आकाश से पृथ्वी तक फैला था। उन्होंने शर्त रखी कि जो अग्नि-स्तम्भ के छोर का दर्शन कर लेगा, उसे ही श्रेष्ठ घोषित किया जाएगा। उन्होंने ब्रह्मा और विष्णु से अग्नि-स्तम्भ का मुकुट और पैर देखने के लिए कहा।

यद्यपि भगवान विष्णु ने एक जंगली सूअर के रूप में, पैरों को देखने के लिए अंत तक पहुंचने की कोशिश की, लेकिन वे असफल रहे। उन्होंने अपनी विफलता को स्वीकार किया और भगवान शिव के सामने हार स्वीकार कर ली।

दूसरे छोर पर, भगवान ब्रह्मा ने हंस के रूप में भगवान शिव के मुकुट तक पहुंचने की कोशिश की। लेकिन वे स्तम्भ के शिखर तक नहीं पहुँच सके। पर ब्रह्मा ने इतनी आसानी से हार नहीं मानी। जब वे ऊपर की ओर बढ़ रहे थे, उन्होंने एक केतकी का फूल देखा, जो नीचे की ओर गिर रहा था। उन्होंने केतकी के फूल से भगवान शिव से झूठी गवाही देने को कहा कि उन्होंने मुकुट के दर्शन कर लिए थे।
केतकी ने ऐसा ही किया और भगवान शिव से कहा कि उसे शिव लिंग के शीर्ष पर रखा गया था। शिव, जो सर्वज्ञ थे और जिन्हें ज्ञात हो गया था कि केतकी और ब्रह्माजी ने उनसे झूठ बोला है, क्रोध में आ गए और ब्रह्माजी का पांचवा सिर काट दिया।

एक अन्य कथा के अनुसार जब ब्रह्मा ब्रह्मांड का निर्माण कर रहे थे, तब उन्होंने शतरूपा नाम की एक स्त्री की रचना भी की। ब्रह्म पुराण के अनुसार, शतरूपा को मनु के साथ ब्रह्मा द्वारा निर्मित पहली महिला माना जाता है।
जब ब्रह्मा ने शतरूपा का निर्माण किया, तो उसका रूप देख वे उस पर मोहित हो गए और उसे निहारते रहे। उनकी टकटकी से बचने के लिए शतरूपा विभिन्न दिशाओं में गई, लेकिन ब्रह्मा ने उसे निहारने के लिए प्रत्येक दिशा के लिए चार, सिर विकसित कर लिए। तब  शतरूपा उनकी टकटकी से दूर होने के लिए ऊपर की ओर बढ़ने लगी। ब्रह्माजी ने तब एक पांचवा सिर ऊपर की ओर विकसित कर लिया। उनके इस आचरण से क्रोधित हो भगवान शिव प्रकट हुए और उनका सिर काट दिया क्योंकि शंकर भगवान का मानना था कि क्योंकि सतरूपा को ब्रह्माजी ने जन्म दिया था, इसीलिए वो उनकी बेटी थी और उनका सतरूपा के प्रति आचरण गलत था।

Please follow and like us:

Aaradhi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top