Category: Festival

वारालक्ष्मी व्रतम – दक्षिण का एक प्रसिद्ध पर्व

वारालक्ष्मी व्रतम एक लोकप्रिय हिंदू त्योहार है जो धन और समृद्धि की देवी, लक्ष्मी, को समर्पित है। यह विशेषकर दक्षिण भारत के राज्यों- कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु और महाराष्ट्र में, श्रावण पूर्णिमा से…

क्यों भगवान हनुमान को संकट मोचन के रूप में जाना जाता है

पवनपुत्र हनुमान जी को संकट मोचन भी कहा जाता है। आइए, जानते हैं कि महाबली हनुमान के इस नाम के पीछे क्या कारण हैं। ‘संकट मोचन’ शब्द का अर्थ है कठिनाइयों का निवारण। ‘संकट…

झापण मेला – सांप महोत्सव बिष्णुपुर पश्चिम बंगाल

झापण मेला पश्चिम-बंगाल के बांकुरा जिले के मनाया जाने वाला एक लोकप्रिय त्योहार है। यह बिष्णुपुर गांव, जो कोलकाता से लगभग 130 किलोमीटर दूर है, में श्रावण मास (जुलाई-अगस्त) के महीने में मनाया जाता…

उज्जैन का महाकालेश्वर मंदिर

उज्जैन का महाकालेश्वर मंदिर भारत के 12 लोकप्रिय ज्योतिर्लिंगों में से एक ज्योतिर्लिंग मंदिर है। यह इंदौर शहर के पास मध्य प्रदेश राज्य के अंतर्गत आता है, जिसे धार्मिक यात्रा के लिए भारत में…

क्या है अमरनाथ यात्रा के पीछे की पौराणिक कहानी

3,888 मीटर की ऊंचाई पर स्थित अमरनाथ गुफा बाबा भोलेनाथ के पवित्रतम तीर्थों में से एक मानी जाती है। श्रीनगर से 141 किमी दूर, इस गुफा में छत से बर्फ के पिघलने के कारण…

नाग पंचमी 2020: कल्याण के लिए नाग देवता की पूजा

नाग पंचमी नाग देवता को समर्पित एक ऐसा भारतीय त्योहार है जहां नागों से परिवार के कल्याण की प्रार्थना की जाती है। यह श्रावण मास के शुक्ल पक्ष पंचमी को मनाया जाता है, जो…

श्रावण का महिना हिंदुओं के लिए इतना खास क्यों है

हिन्दू धर्म में श्रावण का महीना बड़ा खास होता है। यह माना जाता है कि सावन महीने में भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करने से भक्तों को मोक्ष प्राप्त करने में मदद…

भगवान कृष्ण की 8 पत्नियां कौन थीं

भगवान कृष्ण की 16, 108 पत्नियां थीं, जिनमें से 8 प्रमुख थीं। इन आठ पत्नियों को  सामूहिक रूप से अष्टभार्या कहा जाता है। इन आठ पत्नियों के नाम इस प्रकार हैं: रुक्मिणी – विदर्भ…

जगन्नाथ पुरी रथयात्रा से जुड़ी हैरतअंगेज कथा

जगन्नाथ पुरी मंदिर तीन देवताओं की प्रतिमाओं वाला विश्व का एकमात्र मंदिर है। साथ ही, यह एकमात्र मंदिर है जहां भगवान कृष्ण अपने भाई-बहन- बलराम और सुभद्रा के साथ विराजमान हैं। पूरी की जगन्नाथ…

Back to top