गायत्री मंत्र के लाभ| गायत्री मंत्र का महत्त्व

ॐ भूर्भुवः स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात् अर्थात, हम उस दु:ख नाशक, सुख स्वरूप,  पापनाशक, परमात्मा को अपनी अन्तरात्मा में धारण करते हैं। ईश्वर की तेजस्वी शक्ति हमारी बुद्धि को…

क्या है ज्योतिष शास्त्र में शनिदेव का महत्त्व

शनि भगवान (जिन्हें शनि देव, शनि महाराज, और छायापुत्र के नाम से भी जाना जाता है), हिंदू धर्म के सबसे लोकप्रिय देवताओं में से एक हैं। शनिदेव अपशकुन और प्रतिशोध के लिए जाने जाते…

शनि देव के जन्म की रोचक कथा

हमारे नियमित जीवन में, भगवान शनि की दया और शक्ति का बहुत महत्व है। दुनिया पर शासन करने वाले नौ ग्रहों में से शनि सातवें स्थान पर है। ज्योतिषीय दृष्टि से, शनि को एक…

The Gayatri mantra

The Gayatri mantra

“ओमभुर्भुव: सुव:| तत्सवितुर्वरेण्यं भरगोदेवस्यधीमही | धियोयोन: प्रचोदयात् ||” The Gayatri Mantra was written by Rishi Vishwamitra between 1800-1500 BCE. It is a poem from the third section of the Rigveda Samhita (which is considered…

Back to top