दक्षिण मुखी मकान शुभ या अशुभ

दक्षिणमुखी घर उन लोगों के लिए दूसरा विकल्प माना जाता है जो अपने लिए घर खरीदना चाहते हैं। कई संदेह और मिथक दक्षिणमुखी घर से जुड़े

दक्षिणमुखी घर उन लोगों के लिए दूसरा विकल्प माना जाता है जो अपने लिए घर खरीदना चाहते हैं। कई संदेह और मिथक दक्षिणमुखी घर से जुड़े हैं।

दक्षिण मुखी मकान शुभ या अशुभ

पिछले कुछ दशकों से, दक्षिण मुखी घरों को लेकर ज्यादातर लोगों के बीच बहुत भ्रांतियाँ और नकारात्मकता फैल गयी है। ऐसी भ्रांतियाँ फैल गयी हैं कि दक्षिणमुखी घर दुर्भाग्य, बीमारी, विकलांगता और वित्तीय नुकसान आदि को जन्म देता है।

कई लोग हर दक्षिण मुखी घर को अशुभ मानते हैं, लेकिन यह एक बहुत बड़ी गलतफहमी के अलावा और कुछ नहीं है। वास्तु में कोई बुरी दिशा नहीं होती है। यह सब बहुत सारे नियमों और उन्हें कैसे लागू किया जाता है- इस पर निर्भर करता है ।

इसलिए, यदि वास्तु नियमों का ठीक से पालन किया जाए, तो दक्षिणमुखी घर का वास्तु भी समृद्धि ला सकता है और रहने वालों के लिए शुभ हो सकता है। इसलिए, यदि आप दक्षिणमुखी प्लॉट लेने पर विचार कर रहे हैं, तो यह लेख आपकी मदद कर सकता है।

वास्तु में, प्रत्येक दिशा किसी न किसी देवता और तत्व से जुड़ी होती है और इसका सही उपयोग हमारे जीवन में सकारात्मक प्रभाव ला सकता है।  

दक्षिणमुखी घर के वास्तु से क्या तात्पर्य है?

घर के मुख्य द्वार से बाहर निकलते समय आपका मुख जिस दिशा में होता है वह आपके घर की दिशा होती है। इसलिए, यदि ऐसा करते समय आपका मुख दक्षिण की ओर है, तो आप दक्षिणमुखी घर के वास्तु में निवास करते हैं।

दक्षिणमुखी घर का वास्तु खरीदने के लिए सबसे उपयुक्त कौन हैं?

दक्षिण दिशा का स्वामी मंगल ग्रह माना जाता है, इसलिए अचल संपत्ति और स्वास्थ्य उद्योग से जुड़े लोग ऐसी संपत्ति के लिए आदर्श होते हैं। चूंकि दक्षिण दिशा प्रसिद्धि और लोकप्रियता से संबंधित है, इसलिए यह फिल्म, टीवी आदि उद्योग के लोगों के लिए भी आदर्श है। इसके अलावा, चूंकि दक्षिण दिशा अग्नि तत्व से संबंधित है, इसलिए यह सुरक्षा प्रदान करने वाले लोगों के लिए भी एकदम सही है। प्रशासनिक सेवाओं से जुड़े लोग ऐसी संपत्तियों के लिए उपयुक्त होते हैं।

दक्षिणमुखी घर का एक लाभ यह है कि आपको घर में पर्याप्त मात्रा में धूप मिलती है। चूंकि सूर्य हमारे लिए ऊर्जा का प्रमुख स्रोत है, यह हमारे घर को सकारात्मक ऊर्जा और भावनाओं से भर देता है।

दक्षिणमुखी घर मे क्या करें और क्या नहीं

  • बेडरूम को उत्तर या पूर्व दिशा में रखें
  • किचन को दक्षिण पूर्व कोने में या उत्तर पश्चिम में रखें
  • पूजा कक्ष को उत्तर-पूर्व में रखें
  • सीढ़ी को दक्षिण, पश्चिम या दक्षिण पश्चिम दिशा में ही लगाएं
  • सुनिश्चित करें कि दक्षिण की दीवारें उत्तर की दीवारों की तुलना में ऊँची और मोटी हों
  • सेप्टिक टैंक को वेस्ट ऑफ नॉर्थ वेस्ट (WNW) या साउथ ऑफ साउथ वेस्ट (SSW) में रखें
  • मुख्य प्रवेश को दक्षिण पश्चिम कोने में न रखें
  • दक्षिण पश्चिम कोने में रसोई न रखें
  • दर्पणों को बेतरतीब ढंग से लगाने से बचें
  • दक्षिण पश्चिम कोने में बाग लगाने से बचें
  • पार्किंग को दक्षिण दिशा में न रखें

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *