रक्षाबंधन का त्यौहार

एक सामाजिक प्राणी होने के नाते मनुष्य कई रिश्ते-नातों से बंधा होता है। वैसे तो हर रिश्ते की अपनी ही खुशबू और अपना ही एक रंग होता है, लेकिन भाई-बहन का नाता बड़ा अनोखा और शब्दों में वर्णन से परे होता है। भाई-बहन के बीच का रिश्ता असाधारण होता है और इसे दुनिया के हर हिस्से में महत्व दिया गया है। हालाँकि, जब भारत की बात आती है, तो रिश्ता और भी महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि यहाँ भाई-बहन के प्यार के लिए “रक्षा बंधन” नामक एक पूरा पर्व समर्पित होता है।

रक्षा बंधन का त्योहार भारत और नेपाल जैसे देशों में भाई और बहन के बीच प्यार के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है। रक्षा बंधन का अवसर श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है जो आमतौर पर ग्रेगोरियन कैलेंडर के अगस्त महीने में आता है।

यह त्योहार भाई-बहन के रिश्ते के शाश्वत प्रेम का प्रतीक है जिसका अर्थ केवल रक्त संबंध नहीं है। यह चचेरे भाई, बहन और भाभी, भ्रातृ चाची (बुआ) और भतीजे (भतीजा) और ऐसे अन्य संबंधों के बीच भी मनाया जाता है।

रक्षाबंधन का त्यौहार

रक्षा बंधन उत्सव की उत्पत्ति

रक्षा बंधन के उत्सव से संबंधित कई कहानियां हैं। हिंदू पौराणिक कथाओं से संबंधित कुछ विभिन्न कथाओं का वर्णन नीचे किया गया है:

इंद्र देव और सची-

भविष्य पुराण की प्राचीन कथा के अनुसार एक बार देवताओं और राक्षसों के बीच भयंकर युद्ध हुआ। युद्ध लंबे समय तक जारी रहा और निर्णायक अंत पर नहीं आया। यह देखकर, इंद्र की पत्नी सची भगवान विष्णु के पास गई, जिन्होंने उसे इन्द्र की रक्षा के लिए एक सूती धागा दिया। साची ने अपने पति की कलाई पर पवित्र धागा बांध दिया, जिससे इंद्रा देव को युद्ध में जीत हासिल हुई और उन्होंने अमरावती को पुनः प्राप्त कर लिया। पौराणिक काल में  महिलाएं अक्सर अपनी पति की रक्षा के लिया उनकी कलाई पर धागा बांधती थी।  तब यह रीवाज़ भाई-बहन के रिश्ते तक सीमित नहीं था।

कृष्ण और द्रौपदी

 महाभारत की कथाओं के अनुसार, पांडवों की पत्नी द्रौपदी ने भगवान कृष्ण को राखी बांधी थी। एक बार जब भगवान श्रीकृष्ण की उंगली कट गयी थी, तब द्रौपदी ने अपनी साड़ी फाड़कर तुरंत उनकी कटी उंगली पर लपेट दी। तब श्रीकृष्ण ने द्रौपदी से वादा किया कि समय आने पर वे द्रौपदी के एक-एक धागे का ऋण उतार देंगे और सदा उसकी रक्षा करेंगे। कौरवों की सभा में द्रौपदी के चीर-हरण के दौरान भगवान ने अपना वादा पूरा किया और द्रौपदी की रक्षा की।

रक्षा बंधन कैसे मनाया जाता है

इस दिन एक बहन अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती है और उसकी समृद्धि, स्वास्थ्य और कल्याण की प्रार्थना करती है। बहन भाई के सिर पर तिलक करती है, उसकी आरती उतारती है और उसे मिठाई खिलाती है। बदले में भाई उपहार देता है और अपनी बहन की हर परिस्थिति में रक्षा का वादा करता है। यह त्योहार दूर के परिवार के सदस्यों, रिश्तेदारों या चचेरे भाई-बहनों के बीच भी मनाया जाता है।

इस साल रक्षा बंधन 22 अगस्त, रविवार को मनाया जाएगा।

Add a Comment

Your email address will not be published.