शनि देव के जन्म की रोचक कथा

हमारे नियमित जीवन में, भगवान शनि की दया और शक्ति का बहुत महत्व है। दुनिया पर शासन करने वाले नौ ग्रहों में से शनि सातवें स्थान पर है। ज्योतिषीय दृष्टि से, शनि को एक अशुभ ग्रह माना जाता है। शनि देव शनि ग्रह का प्रतिनिधित्व करते हैं और शनिवार के स्वामी हैं।

उनके बड़े भाई यम को मृत्यु के देवता के रूप में भी जाना जाता है। जहां यमदेव  मृत्यु के बाद इंसान के कर्मों का परिणाम देते हैं वहीं शनि को जीवन के दौरान ही  इंसान के कर्मों का फल देने के लिए जाना जाता है।

शनि देव के जन्म की रोचक कथा

​​भगवान शनि का जन्म वैशाख की अमावस्या को हुआ था; जिसे शनि अमावस्या या शनि जयंती के रूप में मनाया जाता है।

शनि के जन्म के संबंध में अलग-अलग कहानियां प्रचलित हैं। इनमें से सबसे अधिक लोकप्रिय और स्वीकार्य कथा वह है जिसका ज़िक्र काशी खंड के प्राचीन ‘स्कंद पुराण’ में मिलता है। कथा इस प्रकार है-
भगवान सूर्य का विवाह दक्ष पुत्री संज्ञा से हुआ था। संज्ञा भगवान सूर्य के तेज को सहन नहीं कर पाती थी। उन्हें लगता था कि तपस्या के द्वारा वे अपना तेज बढ़ा सकती थी, या अपनी तपस्या के बल पर, वह भगवान सूर्य की चकाचौंध को कम कर सकती थी। भगवान सूर्य से, उनके तीन बच्चे थे- वैवस्तव मनु, यमराज और यमुना।

भगवान सूर्य के तेज से तंग आकार अपनी तपस्या के बल पर, संज्ञा ने खुद की छाया बनाई और उसका नाम सुवर्णा रखा। बच्चों को छाया को सौंपने के बाद, संज्ञा ने उसे बताया कि छाया इसके बाद नारीत्व की भूमिका निभाएगी और उसके तीनों बच्चों की देखभाल करेगी। साथ ही उसने छाया को आगाह भी किया कि उसे याद रखना चाहिए कि वह छाया थी, संज्ञा नहीं, और किसी को भी इस रहस्य का पता नहीं चलना चाहिए।

संज्ञा ने छाया को अपनी जिम्मेदारियां सौंप दी और अपने माता-पिता के पास चली गई। उन्होंने घर जाकर अपने पिता से कहा कि वह भगवान सूर्य की चमक को बर्दाश्त नहीं कर सकती और इसलिए, अपने पति को बताए बिना वह चली आई थी। यह सुनकर, उनके पिता ने उन्हें बहुत डांटा और कहा कि बिना बुलाए, अगर बेटी घर लौटती है, तो पिता और पुत्री दोनों शापित होते हैं। उन्होंने उसे तुरंत अपने घर वापस लौट जाने के लिए कहा।

पिता की आज्ञा सुन  संज्ञा को चिंता होने लगी कि अगर वह वापस चली गई, तो उन जिम्मेदारियों का क्या होगा जो उसने छाया को दी थी? छाया कहाँ जाएगी? और अगर छाया का रहस्य उजागर हो गया तो क्या होगा? ये सब सोच संज्ञा उत्तर कुरुक्षेत्र के घने जंगलों में तपस्या करने चली गयी।
इधर भगवान सूर्य और छाया के मिलन से तीन बच्चे हुए। भगवान सूर्य और छाया एक दूसरे के साथ खुश थे। सूर्यदेव को कभी भी छाया पर शक नहीं हुआ। छाया के बच्चे मनु, भगवान शनि और पुत्री भद्रा (ताप्ती) थे।
माँ का नाम छाया होने के कारण शनिदेव को छायापुत्र के नाम से भी जाना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि जब शनिदेव का जन्म हुआ, तब सूर्य ग्रहण में चले गए थे। यह हिंदू ज्योतिष पर शनि के प्रभाव को दर्शाता है।

Add a Comment

Your email address will not be published.