जब चारों ओर अराजकता, अंधविश्वास और कट्टरता व्याप्त थी, तब हिन्दू धर्मग्रंथों, विशेष रूप से उपनिषदों की पुनर्व्याख्या के कारण आदि शंकराचार्य या प्रथम शंकराचार्य...